Gosamvardhan Samiti

स्थूल भौतिक शरीर को बलवान एवम् समृध्द बनाने के साथ - साथ सूक्ष्म स्तर पर दैवीय गुणों को जागृत करके उन्नत बनाने (मानसिक शोधन एवम् विकास) तथा कारण स्तर पर भावनात्मक परिवर्तन करके स्वभाव को शुद्ध करने (भाव एवम् विचार का शोधन) की दिव्य शक्ति को धारण करने वाली होने से गौ माता को देवताओं ने भी माता एवम् संबंधिनी कहा है |

जब तक गाय को उसकी उपयोगिता के आधार पर मापा जायेगा, तब तक वास्तविक गौ रक्षा नहीं होगी | गौ का प्रश्न हमारी आस्था के साथ जुड़ा है | हमारे धर्म-कर्म, लोक-परलोक और जन्म-मरण की सहायिका गौ माता है | हमारी संस्कृति, सभ्यता और सनातन आस्था का प्रतीक गौ माता है | गौ माता की रक्षा के लिए यथा शक्ति प्रयत्न करेंगे | गोवंश की हिंसा से प्राप्त चर्म, औषधियों एवम् सौंदर्य प्रसाधनो का उपयोग नहीं करेंगे | गौ दुग्ध एवम् गौ घृत को दैनिक जीवन का अंग बनाकर गौरक्षा के साथ - साथ जीवन का परम लाभ प्राप्त करने की और अग्रसर होंगे | उसे उसके सम्मानीय पद पर प्रतिष्ठित करने का संकल्प ले तभी हम अपनी माँ के लाल है |

Content

Make Donation